शनिवार, नवंबर 14, 2015

शीतल बयार

इतराती हवा में एक चुभन तैरने लगी है,
कोहरे की परतें भी लालिमा छुपाने लगी हैं,
आँगन में जाना और गालों पर गीला सा चुम्बन,
भोर का आलिंगन और बदन में एक कम्पन,
पहाड़ों को ढकने लगी पशमीनों की परतें,
पेड़ों से झड़ने लगे लाल पीले ये पत्ते,
सूरज का सहलाना अब मन को भाने लगा है,
संग कम्बल में दुबकने को मन ललचाने लगा है।
 
- सियरा में मौसम का पहला हिमपात।

1 टिप्पणी:

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

बदलते मौसम का सटीक चित्रण